Tuesday, June 22, 2021

धूम्रपान से मानसिक सेहत पर असर

Smokingधूम्रपान से कैंसर, फेफड़ा और कार्डियोवैस्कुलर समस्याओं का जोखिक बढ़ने के साथ दूसरी परेशानियों जैसे प्रेग्नेंसी प्रॉब्लम, लो स्पर्म काउंट, ओरल प्रॉब्लम, मोतियाबिंद आदि का खतरा भी पैदा होता है। लंबे समय तक तंबाकू के सेवन से मानसिक स्वास्थ्य जैसे एकाग्रता, सीखने और याद रखने की क्षमता आदि भी प्रभावित होती है। इस संबंध में हुए कुछ अध्ययन बताते हैं कि सिगरेट में मौजूद निकोटिन एकाग्रता बढ़ाती है, लेनि इसमें मौजूद दूसरे 4,000 रसायन विषैले प्रकृति के होते हैं।

नॉर्थब्रिया यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान के शोधार्थियों द्वारा किये गये इस शोध अध्ययन में पाया गया कि लंबे समय तक इन विषैले रसायनों के संपर्क में रहने से मस्तिष्क क्षतिग्रस्त हो जाता है। नतीजा हमारी वर्किंग मेमोरी, प्रास्पेक्टिव मेमोरी व सामान्य कार्यकलाप प्रभावित होती है। इससे रोजमर्रा की बातें याद रखने और कुछ सीखने में अक्ष्म हो जाते हैं।

इस अध्ययन में यह बताया गया है कि सिगरेट में मौजूद कार्बन मोनोऑक्साइड, ब्यूटेन और आर्सेनिक का समन्वय हमारे मानसिक स्वास्थ्य के लिए ज्यादा खतरनाक साबित होता है।

Total Views : 1,659 views | Print This Post Print This Post

About गौरव कुमार

3 comments

  1. Very nice
    Gaurav Bhai jee

  2. मस्त है
    भैया

  3. Thanks
    Gaurav
    बहुत अच्छी
    है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

BIGTheme.net • Free Website Templates - Downlaod Full Themes