Tuesday, June 22, 2021

कैंसर को निष्‍प्रभावी बनाने के लिए प्रोफेसर एलिसन और प्रोफेसर तासुकू को मिला नोबेल पुरस्‍कार

Tahuku-Honjo-with-James-P-Allisonमानव शरीर के इम्‍यून सिस्‍टम को इस्‍तेमाल करके कैंसर को निष्‍प्रभावी बनाने के लिए अमरीका के प्रोफेसर जेम्‍स पी एलिसन और जापान के प्रोफेसर तासुकू हॉनजो को इस साल का फिजियोलॉजी या मेडिसिन का नोबेल पुरस्‍कार मिला है। कैंसर के इस इलाज को चेक प्‍वाइंट थेरेपी कहा जा रहा है। पुरस्‍कार देने वाले स्‍वीडिश अकेडमी ने बताया कि इम्‍यून चेक प्‍वाइंट थेरेपी कैंसर के उपचार में काफी क्रांतिकारी बदलाव किया है। विशेषज्ञों का मानना है कि ये काफी प्रभावी साबित हुआ है। टेक्सास विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर एलिसन और क्योटो विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर हॉन्ज़ो नोबेल पुरस्कार से मिलने वाली राशि को साझा करेंगे, जो नौ मिलियन स्वीडिश क्रोनर यानि लगभग 1.01 मिलियन डॉलर या लगभग 7.40 करोड़ रुपये है।

पुरस्कार स्वीकार करते हुए तासुकू हॉन्ज़ो ने संवाददाताओं से कहा, “मैं अपना शोध जारी रखना चाहता हूं… ताकि ये इम्यून थेरेपी अधिक से अधिक कैंसर के मरीजों को बचा सके।” प्रोफ़ेसर एलिसन ने कहा, “ये काफ़ी अच्छा है, इम्यून चेक प्वाइंट ब्लॉकेड से पूरी तरह सही होने वाले मरीजों से मिलने का भी मौका है। वे मूलभूत विज्ञान की शक्ति साबित करने के लिए हैं ताकि चीज़ें कैसे काम करती है, ये हम सीख और समझ सकें और उन्हें बता सकें।”

cancer

अब कैंसर जैसी बीमारी का भी इलाज संभव

हमारे शरीर को इम्‍यून सिस्‍टम कई बीमारियों से बचाता है लेकिन अंदर ये अपने ही उतकों के हमले से बचने के लिए एक सेफगार्ड भी बनाता है। कुछ कैंसर उन ब्रेड का फायदा उठाते हैं और उस हमले से बच सकते हैं। 70 के दशक में एलिसन और हॉन्‍जो ने ब्रेक लगाने वाले प्रोटीन को बद करके टयूमर पर हमला करने वाले हमारे इम्‍यून सिस्‍टम को हटाने के लिए एक रास्‍ता ढूंढ़ निकाला है। जिस बीमारी का पहले इलाज होना नामुमकिन था उसके लिए नई दवाईयां लाई गई जो मरीजों को इस बीमारी से लड़ने के लिए एक नई उम्‍मीद होगा।

इम्यून थेरेपी चेक प्वाइंट का उपयोग एनएचएस द्वारा किया गया है। जिसका इस्तेमाल गंभीर मेलानोमा (त्वचा कैंसर) के इलाज के लिए किया जा रहा है। ये सबके लिए प्रभावी नहीं है लेकिन कुछ मरीज़ों में बहुत ही अच्छी तरह काम कर रहा है जिसके परिणाम अविश्वसनीय है। पूरी तरह से ट्यूमर से छुटकारा मिल रहा है चाहे वो शरीर में पूरी तरह ही क्यों न फैल गया हो। ऐसे मरीज़ों में इतने अच्छे परिणाम पहले कभी नहीं देखे गए हैं। एडवांस लंग्स कैंसर में भी कई डॉक्टर इस ट्रीटमेंट का उपयोग कर रहे हैं। “इम्यूनोथेरेपी से एक नया रास्ता निकला है जो अभी अपने शुरुआती दौर में हैं इसलिए भविष्य में इस दिशा में होने वाली प्रगति और नये अवसरों की कल्पना करना ही काफ़ी रोमांचक है।”

Total Views : 3,124 views | Print This Post Print This Post

About कुमार आशु

One comment

  1. Eat more fruit and vegetables, avoid high-fat diary products
    and pick the liver organ and fish. Your lover is kept unfulfilled on a lot more than 50 % of one’s lovemaking
    times. The doctor can recommend that you simply suitable NSU treatment after studying your symptoms and doing an STI test.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

BIGTheme.net • Free Website Templates - Downlaod Full Themes