Saturday, October 16, 2021

जिम में 1 मिनट का व्यायाम 45 मिनट के बराबर

GYM‘कसरत करने का तो समय ही नहीं मिलता।’ स्वास्थ्य के लिए व्यायाम को जरूरी बताने पर आजकल हर कोई ऐसी ही दलील देता है। व्यस्त जीवनशैली के बीच चंद वक्त व्यायाम के लिए निकाल पाना लोगों के लिए मुश्किलों भरा है। लेकिन अब यह बहाना नहीं चलेगा। हाल ही में आई एक रिसर्च के मुताबिक, एक मिनट की भी तीव्र कसरत 45 मिनट के पारंपरिक कसरत जितना फायदेमंद है। कनाडा के ओंटारियो स्थित मैकमेस्टर विश्वविद्यालय के प्रफेसर ऑफ किसियोलॉजी और शोध दल के प्रमुख मार्टिन गिबाला ने बताया, ‘यह काफी समय की बचत करने वाली व्यायाम नीति है। ज्यादातर लोग कसरत नहीं करने का बहाना यही बनाते हैं कि उनके पास समय नहीं है। हमारे अध्ययन का निष्कर्ष है कि कम समय में भी तेज कसरत से स्वास्थ्य संबंधी फायदा मिलता है।’

 वैज्ञानिकों ने शोध के दौरान यह पता लगाया कि स्पिरिट इंटरवल ट्रेनिंग (एसआईटी) मॉडरेट इंटेंसिटी कंटिन्यूअस ट्रेनिंग (एमआईएसटी) की तुलना में कितना प्रभावी है जिसकी सिफारिश सार्वजनिक स्वास्थ्य के दिशा निर्देशों में की जाती है। शोध के दौरान कार्डियोरेस्परेटरी फिटनेस और इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता की जांच की गई।

इसके तहत कुल 27 सुस्त पुरुषों की भर्ती की गई और उन्हें 12 हफ्तों के लिए गहन और पारंपरिक दोनों तरीकों के कसरत करने को दिए गए, साथ ही एक समूह को बिल्कुल भी कसरत नहीं करने को कहा गया। एसआईटी प्रोटोकॉल के तहत 20 सेकंड तक ऑल आउट साइकिल स्प्रिंट कसरत करना था जो सबसे अधिक प्रभावी पाया गया। 10 मिनट के वर्कआउट में 2 मिनट का वार्म अप और तीन मिनट का कूल डाउन भी शामिल था और तीक्ष्ण कसरतों के बीच में 2 मिनट की आसान साइकिलिंग भी शामिल है।

इस नए अध्ययन में इस समूह की तुलना दूसरे समूह से की गई, जिन्होंने 45 मिनट लगातार साइकिल चलाई साथ वार्मअप और कूलडाउन में सिट प्रोटोकॉल जितना ही समय लिया। इस शोध में कहा गया कि 12 हफ्तों के प्रशिक्षण के बाद दोनों समूहों का परिणाम उल्लेखनीय रूप से एक जैसा था।

–NBT

Total Views : 715 views | Print This Post Print This Post

About ashuj1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

BIGTheme.net • Free Website Templates - Downlaod Full Themes